चुनाव 2024 राज्य नौकरी राजनीति देश दुनिया योजना खेल समाचार टेक जमशेदपुर धर्म-समाज
---Advertisement---

टाटा स्टील कोक प्लांट के 110 मीटर ऊंची चिमनी और 48 मीटर उंचा कोल टॉवर को इको फ्रेंडली तरीके से किया गया ध्वस्त

By Goutam

Published on:

---Advertisement---

सोशल संवाद/जमशेदपुर: टाटा स्टील ने रविवार को अपने जमशेदपुर वर्क्स में दो पुराने कोक प्लांट फैसिलिटीज – बैटरी 6 चिमनी और एक कोल टॉवर को ध्वस्त करने की प्रक्रिया को सफलतापूर्वक अंजाम दिया, जिससे कंपनी के इंजीनियरिंग कौशल को बल मिला।

एक बेहतर कल की दिशा में बड़ा कदम उठाते हुए, टाटा स्टील जमशेदपुर में मौजूदा कोक ओवन बैटरी 5, 6 और 7 (1MnTPA की संयुक्त क्षमता) को नई कोक ओवन बैटरी 6A और 6B (1MnTPA की संयुक्त क्षमता) से बदल रही है, जो नवीनतम तकनीक और उच्च ऊर्जा दक्षता से लैस होगा।

आज का इम्प्लोजन जमशेदपुर वर्क्स के कोक प्लांट में अप्रचलित गगनचुंबी फैसिलिटीज को खत्म करने की प्रक्रिया के पूरा होने का प्रतीक है, जिन्हें कई पहली बार किये गए पहल का श्रेय जाता हैं। दुनिया में अपनी तरह की पहली इंजीनियरिंग प्रक्रिया में, टाटा स्टील ने एक ऑपरेटिंग स्टील प्लांट में इन इम्प्लोजन गतिविधियों को अंजाम दिया, जिसमें विशाल संरचना शामिल थी, जो भारत में सबसे ऊंची थी।

12-मीटर ऊंचाई की एक मॉडल रिपेयर शॉप का पहला इम्प्लोजन 4 सितंबर, 2022 को किया गया था;  और 27 नवंबर, 2022 को कंपनी ने कोक प्लांट में एक पुराने 110 मीटर लंबी चिमनी (बैटरी #5 चिमनी) के इम्प्लोजन को सफलतापूर्वक अंजाम दिया। आज, 48 मीटर ऊंचे कोल टॉवर के साथ 110 मीटर ऊंचाई की एक और कंक्रीट चिमनी (बैटरी#6 चिमनी) को सुरक्षित और पर्यावरण स्नेही तरीके से ध्वस्त कर दिया गया। ये इम्प्लोजन हमारे कॉन्ट्रैक्ट पार्टनर एडिफिस इंजीनियरिंग इंडिया और जेट डिमोलिशन साउथ अफ्रीका की मदद से किए गए।

110 मीटर ऊंची चिमनियों के नियंत्रित इम्प्लोजन को एक मैकेनिकल हिंज का उपयोग करके निष्पादित किया गया, जिससे संरचना शून्य डिग्री विचलन के साथ एक दिशा में गिरने में सक्षम हो गई। धूल को नियंत्रित करने के लिए ‘वाटर कर्टेन’ का इस्तेमाल किया गया और कंपन को अवशोषित करने के लिए ‘बर्म के साथ ट्रेंचेस’ लगाए गए। साथ ही, ‘स्टील मैश’ के इस्तेमाल से मलवा बिखरने से बचा।

इन इम्प्लोजन से उत्पन्न कंक्रीट के मलबे को पीसीसी, दीवार और सड़क निर्माण में रीसायकल किया जाएगा। विज़िबिलिटी में सुधार करने और दुर्गम क्षेत्रों में पहुंचकर खतरों की पहचान करने और इम्प्लोजन के दौरान आसपास के क्षेत्रों का सर्वेक्षण करने के लिए ड्रोन तैनात किए गए थे। टाटा स्टील ने उद्योग-अग्रणी समाधानों को तैनात करना जारी रखा है और सस्टेनेबिलिटी डिस्कोर्स का समर्थन करती है।

संजीव पॉल, वाइस प्रेसिडेंट सेफ्टी, हेल्थ एंड सस्टेनेबिलिटी, टाटा स्टील ने कहा: “हमने अप्रचलित कोक प्लांट सुविधाओं के सुरक्षित और नियंत्रित इम्प्लोजन का एक महत्वपूर्ण काम पूरा कर लिया है।  यह परिचालन दक्षता, सुरक्षा, संसाधन अनुकूलन और सतत विकास रणनीति के प्रति हमारी प्रतिबद्धता का प्रमाण है।

अवनीश गुप्ता, वाईस प्रेसिडेंट, टीक्यूएम और इंजीनियरिंग एंड प्रोजेक्ट्स, टाटा स्टील ने कहा: “टाटा स्टील स्टील उद्योग में एक प्रौद्योगिकी और नवाचार लीडर बनने का प्रयास कर रही है, जो इन-हाउस क्षमताओं का लाभ उठाकर, बाहरी पारिस्थितिक तंत्र का निर्माण करती है।  और, इन जटिल इम्प्लोजन का सफल निष्पादन हमारी बेहतर इंजीनियरिंग क्षमताओं को प्रदर्शित करता है।

---Advertisement---