चुनाव 2024 राज्य नौकरी राजनीति देश दुनिया योजना खेल समाचार टेक जमशेदपुर धर्म-समाज
---Advertisement---

गम्हरिया के जेवियर स्कूल में वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिता आयोजित, चीता हाउस बना ओवरऑल विजेता

By Goutam

Published on:

---Advertisement---

सोशल संवाद/जमशेदपुर (रिपोर्ट- अमन ओझा): गम्हरिया स्थित जेवियर स्कूल में विद्यालय के नोवें वार्षिक खेलकूद प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। इस प्रतियोगिता में सरायकेला-खरसावां जिले के एसडीपीओ हरविंदर सिंह मुख्य अतिथि के रूप में, दिव्या शर्मा सम्मानित अतिथि के रूप में और गम्हरिया थाना प्रभारी राजीव कुमार सिंह विशिष्ट अतिथि के रूप में मौजूद रहे।

इस मौके पर विद्यालय के वार्षिक खेलकूद महोत्सव में अतिथियों ने गुब्बारे उड़ाकर खेल की विधिवत शुरुआत की। विद्यालय के बच्चों के द्वारा विभिन्न प्रकार के एकल, ग्रुप प्रतियोगिता और पिरामिड करके सभी का मन मोह लिया। छात्राओं के द्वारा जुंबा डांस किया गया। कक्षा 11वीं के छात्रों ने हैरतअंगेज बाइक स्टंट करते हुए सभी लोगो का ध्यान अपनी ओर आकर्षित करवाया और सभी लोगों को देश प्रेम का संदेश दिया।

इस मौके पर विद्यालय के प्रधानाचार्य डॉक्टर फादर टोनी राज एस.जे ने बच्चों को पढ़ाई के साथ-साथ खेलकूद में भी आगे बढ़ते रहने का संदेश दिया। मुख्य अतिथि हरविंदर सिंह ने कहा कि ऐसे आयोजन से बच्चों में शारीरिक व मानसिक विकास होता है। सभा को विशिष्ट अतिथि और सम्मानित अतिथियों ने भी संबोधित किया। विद्यालय के बच्चों के द्वारा कराटे का प्रदर्शन किया गया। अंत में सभी प्रतिभागियों और विजेताओं के बीच पुरस्कार वितरण किया गया। चीता हाउस को सर्वश्रेष्ठ विजेता घोषित किया गया, वही जगुआर हाउस की टीम दूसरे स्थान पर रही।

विद्यालय के क्लास नौवीं के छात्र विशाल कुमार ने परेड की अगुवाई की। विद्यालय के बच्चों ने चार विभिन्न हाउस के अंतर्गत मार्च पास्ट किया जिसमें लेपर्ड हाउस को बेस्ट मार्च पास्ट का खिताब दिया गया। सर्वश्रेष्ठ एथलीट का पुरस्कार बालक वर्ग में विद्यालय के छात्र अमन बेसरा, अमित हांसदा और राहुल को मिला। इसी तरह बालिका वर्ग में विद्यालय की छात्रा वंदना, अनामिका और शांति टुडू को मिला।

इस कार्यक्रम को सफल बनाने में विद्यालय के सुपीरियर फादर फ्रांसिस, उप-प्रधानाचार्य दयानिधि, सिस्टर रेशमी, सिस्टर अर्चना, ब्रदर अमलराज, खेल प्रशिक्षक विकास कुमार सिंह, सुजीत रजक, सुनीता मांझी, तूलिका धारा कोले  समेत अन्य शिक्षक-शिक्षिकाओं का अहम योगदान रहा।

---Advertisement---