चुनाव 2024 राज्य नौकरी राजनीति देश दुनिया योजना खेल समाचार टेक जमशेदपुर धर्म-समाज
---Advertisement---

झारखण्ड में कृषि बाज़ार शुल्क के खिलाफ व्यवसायियों की राज्यव्यापी हड़ताल समाप्त, सरकार के द्वारा व्यापारी हितों को ध्यान में रखने का मिला आश्वासन

By Goutam

Published on:

---Advertisement---

सोशल संवाद/जमशेदपुर: झारखण्ड सरकार द्वारा लगाये गये मंडी शुल्क के विरोध में पूरे प्रदेश में फेडरेशन ऑफ़ चैम्बर ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री एवं सिंहभूम चैमबर ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री द्वारा चलाये जा रहे आंदोलन का असर साफ तौर पर बाजारों मे दिखने लगा। सिंहभूम चैम्बर के तत्वावधान में शहर के विभिन्न बाजारों के खुदरा व्यापारियों ने स्वतः बैठक कर इस आंदोलन से जुड़ने की घोषणा की थी।

प्रदेश में सोमवार से खाद्यान्न के सारे खुदरा व्यापारी इस आंदोलन से जुड़ने का मानस बना चुके थे।  इस आंदोलन की व्यापकता एवं इससे होने वाले दुष्प्रभावों को समझते हुये झारखण्ड सरकार के कृषि मंत्री बादल पत्रलेख एवं मुख्यमंत्री के सचिव विनय चैबे, मुख्यमंत्री आवास में व्यापारिक संगठनों से वार्ता की एवं कहा कि सरकार व्यापारिक हितों का ध्यान रखेगी। सरकार के प्रतिनिधियों ने व्यापारियों से आंदोलन को स्थगित करने की मांग की।  इस आश्वासन के मद्देनजर फेडरेशन ऑफ़ झारखण्ड चैमबर ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ने फिलहाल इस आंदोलन को स्थगित करने की घोषणा की। चूंकि यह आंदालन राज्य स्तर पर चल रहा था इसलिये फेडरेशन के सुर में सुर मिलाते हुये सिंहभूम चैम्बर ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ने भी व्यापार मंडल के साथ बैठक कर इस आंदोलन को स्थगित करने की घोषणा की। यह जानकारी अध्यक्ष विजय आनंद मूनका, मानद महासचिव मानव केडिया, उपाध्यक्ष, व्यापार एवं वाणिज्य नितेष धूत एवं सचिव, व्यापार एवं वाणिज्य अनिल मोदी ने संयुक्त रूप से दी।

चैम्बर अध्यक्ष ने कहा कि सरकार के तरफ से दिया गया यह आष्वासन व्यापारी एकता की बड़ी जीत है। सिंहभूम चैम्बर के नेतृत्व में खाद्यान्न व्यापारियों ने जिस एकता से इस आंदोलन को जारी रखा वह काबिले तारीफ है।  और व्यापारियों की यह एकता व्यापारीहित के विरोध में आगे भी कायम रहेगी। सिंहभूम चैम्बर हमेषा व्यापारिक हितों के प्रति जवाबदेह रहेगा और अपने दायित्व को समझते हुये उनका प्रतिनिधित्व कर सरकार और व्यापारियों के बीच सेतु का काम करता रहेगा।

बैठक में चैम्बर अध्यक्ष विजय आनंद मूनका, मानद महासचिव मानव केडिया, उपाध्यक्ष नितेष धूत, महेष सोंथालिया, मुकेष मित्तल, सचिव अनिल मोदी, भरत मकानी, कोषाध्यक्ष किषोर गोलछा, पवन नरेडी, करण ओझा, आषीष शर्मा, भीमसेन शर्मा, विजय अग्रवाल, रौनक सचदेवा, अजय कांवटिया, विद्याशंकर गुप्ता, सत्यनारायण अग्रवाल, राजकुमार साह, मनोज गोयल, अनूप शर्मा, मनोज अगीवाल, संदीप, रामू देबुका, महेष सरायवाला, बंषीधर अग्रवाल, प्रदीप कुमार अग्रवाल, विमल चैधरी, चन्द्रप्रकाष शुक्ला, अमित कुमार, बंटी अग्रवाल, सुषील कुमार अग्रवाल, बिनोद अग्रवाल, बालमुकुंद अग्रवाल, दिलीप तुल्स्यान, महेष गोयल, विकास नरेडी, केषव अग्रवाल, संतोष केसरी, मिट्ठु केसरी, पंकज, कुलदीप सिंह, अनूप जवनपुरिया, ललित कुमार केवलका, राहूल मित्तल, गोविन्द अग्रवाल, महेष अग्रवाल, के अलावा काफी संख्या में खाद्यान्न, आलू-प्याज एवं फल व्यापारी उपस्थित थे।

---Advertisement---