चुनाव 2024 राज्य नौकरी राजनीति देश दुनिया योजना खेल समाचार टेक जमशेदपुर धर्म-समाज
---Advertisement---

कोरोना के चौथी लहर को लेकर अलर्ट मोड पर प्रशासन, सरकारी व निजी चिकित्सा संस्थान प्रबंधकों के साथ बैठक, जानिए किसने क्या कहा….

By Goutam

Published on:

---Advertisement---

ख़ास बातें:
  • सभी चिकित्सा संस्थानों में उपलब्ध उपकरणों का ब्यौरा 25 दिसंबर तक मांगा गया, पीएसए प्लांट के मॉक ड्रिल कराने का भी निर्देश
  • घबराने की आवश्यकता नहीं है, अपनी ओर से तैयारी दुरुस्त रखें… नन्दकिशोर लाल, एडीएम लॉ एंड ऑर्डर
  • बूस्टर डोज नहीं लेने वाले हेल्थ वर्कर जल्द टीकाकरण करायें… डॉ. साहिर पाल, सिविल सर्जन
  • वर्तमान में जिले में करीब 250 बेड आईसीयू तथा 1000 ऑक्सीजन बेड कोविड मरीजों के लिए तैयार

सोशल संवाद/जमशेदपुर: कोरोना के संभावित चौथे लहर को लेकर भारत सरकार ने सभी राज्य सरकारों को अलर्ट पर रहने का आदेश जारी किया है। चौथे लहर का क्या स्वरूप हो सकता है, जिला प्रशासन के सामने क्या चुनौतियां होंगी तथा उससे निपटने की प्रभावी तैयारी को लेकर समाहरणालय सभागार, जमशेदपुर में जिले के सरकारी एवं निजी चिकित्सा संस्थानों के प्रबंधकों के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक आहूत की गई।

एडीएम लॉ एंड ऑर्डर नन्दकिशोर लाल, सिविल सर्जन डॉ साहिर पाल, एसडीएम धालभूम पीयूष सिन्हा, जिला परिवहन पदाधिकारी दिनेश रंजन, डीसीएलआर रविन्द्र गागराई, जिला योजना पदाधिकारी अरूण द्विवेदी, एमजीएम अस्पताल के अधीक्षक, एपिडेमोलॉजिस्ट डॉ असद, यूसीआईएल, टीएमएच, टाटा मोटर्स व टीनप्लेट अस्पताल तथा अन्य निजी चिकित्सा संस्थान व नर्सिंग होम के प्रतिनिधि मौजूद रहे ।

बैठक में उपस्थित सभी अस्पताल प्रबंधकों से 25 दिसंबर तक कोविड संबधी उपचार को लेकर उपलब्ध चिकित्सीय उपकरण की समीक्षा कर प्रतिवेदन सिविल सर्जन कार्यालय को उपलब्ध कराने का निर्देश दिया गया । सभी अस्पतालों में कोविड डेडिकेटेड बेड की उपलब्धता की समीक्षा की गई।

जिले के सभी अस्पतालों को मिलाकर वर्तमान में कुल 250 आईसीयू बेड तथा 1000 ऑक्सीजन युक्त बेड कोविड मरीजों के उपचार को लेकर तैयार हैं तथा सभी ने आश्वस्त भी किया कि आवश्कता पड़ने पर इसमें और भी विस्तार किया जाएगा। जितने भी पीएसए प्लांट (ऑक्सीजन प्लांट) जिले में अधिष्ठापित हैं सभी के मॉक ड्रिल का निर्देश दिया गया ।

एडीएम लॉ एंड ऑर्डर ने कहा कि चौथे लहर को लेकर अभी से घबराने की आवश्यकता नहीं है लेकिन अपनी ओर से सभी अस्पताल प्रबंधक तैयारियों को दुरुस्त रखेंगे । उन्होने सभी हेल्थ वर्कर को सचेत करते हुए कहा कि इलाज के दौरान कोविड प्रोटोकॉल का आवश्यक रूप से पालन करेंगे ताकि किसी भी तरह से जनहानि नहीं हो । उन्होने स्पष्ट कहा कि पहले के तीनों लहर से सीख लें, अभी से तैयारी में लग जाएं, पहले का अनुभव भी इसमें काफी उपयोगी होगा।

सिविल सर्जन ने वैसे सभी हेल्थ वर्कर जिन्होने अभी तक बूस्टर डोज नहीं लिया है उनसे बूस्टर डोज लेने की अपील की। उन्होने बताया कि शहरी क्षेत्र में कीनन स्टेडियम, एमजीएम अस्पताल साक्ची, सदर अस्पताल, टाटा मोचर्स ऑक्यूपेशनल हेल्थ सेंटर तथा ग्रामीण क्षेत्र में सभी सीएचसी में वैक्सीन दिए जा रहे हैं।

उन्होने बताया कि चीन में संक्रमण की नई लहर में ओमिक्रोन के सब वैरिएंट बीएफ 7 मिला है लेकिन हमारे राज्य या जिले में ऐसा एक भी संदिग्ध मरीज नहीं है। उन्होने कहा कि जिले में एक भी व्यक्ति अभी कोरोना संक्रमित नहीं हैं, जिला कोरोना मुक्त है लेकिन हमें पूर्व की गलतियों को नहीं दोहराते हुए सजग रहना है, कोई बाहर से आता है और उसमें कोई लक्षण दिखे, तो उसकी जांच अवश्य कराएं।

---Advertisement---