चुनाव 2024 राज्य नौकरी राजनीति देश दुनिया योजना खेल समाचार टेक जमशेदपुर धर्म-समाज
---Advertisement---

खरसावां के गांगुली मैदान में ग्राम सभा मंच खरसावां के द्वारा किया बैठक, केंद्र के जन विरोधी वन नीति पर किया चर्चा

By Goutam

Published on:

खरसावां

---Advertisement---

जनसंवाद डेस्क/खरसावां (रिपोर्ट- उमाकांत कर): खरसावां के गांगुली मैदान में ग्राम सभा मंच खरसावां के द्वारा बोसेन मुंडा के अध्यक्षता पर एक विशेष बैठक आयोजित किया गया।जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में झारखंड जंगल बचाओ आंदोलन के केंद्रीय सदस्य सोहनलाल कुम्हार ने उपस्थित हुए।

मौके पर केंद्रीय सदस्य सोहनलाल कुम्हार बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि बड़े-बड़े उद्योगपतियों को खनन करने तथा उद्योग स्थापित करने के लिए वन संरक्षण अधिनियम 1980 के तहत 2022 को वन संरक्षण नियम तैयार की है।साथ ही 2023 को इसे लोकसभा से पारित भी कर लिया गया है। इसे सुधार करने हेतु विभिन्न सामाजिक जन संगठनों ने प्रधानमंत्री राष्ट्रपति तथा केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा को भी ज्ञापन दिया गया था।

इसी नियम के तहत केंद्र सरकार ने कोयला खनन के लिए अडानी को छत्तीसगढ़ राज्य के सुरगुजा जिला के हसदेव अरण्य को काटने के लिए स्वीकृति प्रदान कर दिया है। हसदेव अरण्य की कटाई से लाखों छोटे बड़े पौधों के साथ वन्यजीव व जैवविविधताएं समाप्त हो जाएंगे।एवं आदिवासी मूलवासी विस्थापन के शिकार झेलेंगे साथ ही जलवायु तथा पर्यावरण पर काफी बुरा प्रभाव पड़ेगा। बैठक में जंगलों की बचाएं करने के साथ सरकार को ध्यान आकृष्ट करने के लिए आगामी 29 जनवरी को खरसावां प्रखंड अंचल के माध्यम से माननीय प्रधानमंत्री को ज्ञापन सौंपा जाएगा।

बैठक में मुख्य रूप से सोहनलाल कुम्हार, भारत सिंह मुंडा, दोगुना सिंह सरदार आदि उपस्थित थे।

---Advertisement---

Related Post