चुनाव 2024 राज्य नौकरी राजनीति देश दुनिया योजना खेल समाचार टेक जमशेदपुर धर्म-समाज
---Advertisement---

पूर्व विधायक कुणाल षडंगी ने किया सोहराई चित्रकला को जिवंत रखने वाली महिला उद्यमियों को सम्मानित, कहा- झारखंड की इस कला को ग्लोबल लेवल पर पहचान दिलाने का करेंगे प्रयास

By Goutam

Published on:

सोहराय

---Advertisement---

जनसंवाद/जमशेदपुर: सरस्वती पूजा के शुभ अवसर पर भाजपा प्रदेश प्रवक्ता एवं नाम्या  स्माइल फाऊंडेशन के संस्थापक कुणाल षडंगी ने प्रधानमंत्री के आह्नान पर जमशेदपुर प्रखंड अंतर्गत ग्राम किनुडीह एवं ग्राम जोंद्रागोड़ा में गांव चलो अभियान के तहत पूरे विश्व में प्रसिद्ध सोहराई चित्रकला सोहराय को जीवंत रखने वाली ग्रामीण महिला उद्यमियों से मुलाकात की और उनकी समस्याओं से अवगत हुए।

सोहराई पेंटिंग्स झारखंड के सन्दर्भ में एक महत्वपूर्ण और प्राचीन कला प्रणाली हैं किन्तु जीआई टैग ना होने के कारण ये अपनी कला को राष्ट्रीय एवं अंतरराष्ट्रीय स्तर के बाजारों तक नहीं पहुंच पा रही है। झारखंड से एक ही उत्पाद कौ G I टैग है और वही सोहराय पेंटिंग है और वह भी जो हजारीबाग जिले मे काम हो रहा है उसे प्राप्त है। जी आई टैग न होने के कारण इन महिला उद्यमियों को इस कला मे निपुण होने के बावजूद इनकी आय मे वृद्धि नहीं हो पा रही है। कुणाल ने महिला  उद्यमियों को आश्वासन दिया कि वह पूर्वी सिंहभूम जिले मे कार्यरत महिलाओं द्वारा बनाई जा रही सोहराई पेंटिंग्स को जल्द से जल्द जीआई टैग दिलवाने के दिशा में कार्य करेंगे। उन्होंने अपने लिए सोहराई पेंटिंग्स से बनी एक शॉल खरीदी जिसका भुगतान उन्होंने यूपीआई द्वारा किया। उन्होने कहा की हमे वोकल पर लोकल कू मानसिकता विक्सित करनी होगी।

इस कार्यक्रम मे मुख्य रूप से  नाम्या  स्माइल फाऊंडेशन की तरफ से निकिता मेहता, निधि केडिया, अभिरा संस्थान की ओर से स्वाति सिंह एवं पूर्व जिला परिषद सुदीप्तो दे राणा मौजूद थे। कार्यक्रम का समापन महिला उद्यमियों को सर्टिफिकेट एवं पुरस्कार देकर किया गया।

---Advertisement---