चुनाव 2024 राज्य नौकरी राजनीति देश दुनिया योजना खेल समाचार टेक जमशेदपुर धर्म-समाज
---Advertisement---

वर्ल्ड हेरिटेज डे पर जानिये 105 साल पुराने जमशेदपुर की ऐसी धरोहरें, जिन्हें जानकर रह जाएंगे दंग…

By Goutam

Published on:

---Advertisement---

जनसंवाद, जमशेदपुर: लौहनगरी जमशेदपुर की समृद्ध विरासत ही इसकी पहचान है। 105 साल पुराने इस शहर में ऐसे कई धरोहर हैं, जिसे आज भी देख आप दंग रह जाएंगे। शहर का पहला होटल बुलेवर्ड हो या फिर पहला चर्च सेंट जोसेफ चर्च। रीगल बिल्डिंग से लेकर एक्सएलआरआइ व एनएमएल, टाटानगर स्टेशन से लेकर टीएमएच, सभी भवन अपने आप में इतिहास समेटे हैं।

कालीमाटी स्टेशन 

स्टेशन की स्थापना 1891 में कालीमाटी स्टेशन के रूप में हुई थी, और 1907 में टाटा स्टील की स्थापना के बाद इसका विस्तार किया गया, जब साकची को टिस्को स्टील प्लांट के लिए आदर्श स्थल के रूप में चिन्हित किया गया। 1919 में, टाटा समूह के संस्थापक जमशेदजी एन टाटा के सम्मान में स्टेशन का नाम बदलकर टाटानगर रेलवे स्टेशन कर दिया गया। 1961 में, स्टेशन का जीर्णोद्धार किया गया, जिसके परिणामस्वरूप एक मुख्य प्लेटफ़ॉर्म और चार अतिरिक्त प्लेटफ़ॉर्म बनाए गए, जिन्हें टाटा स्टील की कॉरगेटेड शीट्स का उपयोग करके कवर किया गया था।

पारसी फायर टेम्पल:  मुंबई से विशेष विमान से लाई गई थी अग्नि

जमशेदजी नसरवानजी टाटा ने जमशेदपुर में ना केवल टाटा स्टील की स्थापना की, बल्कि अपनी बिरादरी को भी यहां बसाया था। यहां गुजरात के नवसारी से सैकड़ों पारसी परिवार आए थे, जबकि कई मुंबई से भी आए। करीब 50 वर्ष बाद पारसी समाज ने यहां फायर टेंपल की आवश्यकता महसूस की। कीनन स्टेडियम के पास 18 नवंबर 1954 को मंदिर का शिलान्यास किया गया, तो तीन मार्च 1960 को इसकी प्राण-प्रतिष्ठा की गई। यहां जो अग्निकुंड स्थापित है, उसके लिए मुंबई से विशेष विमान से अग्नि लाई गई थी। टाटा कंपनी के जेनरल मैनेजर सर जहांगीर घांदी ने विमान उपलब्ध कराया था।

मंदिर के पुजारी मेहरनोस एच. दस्तूर बताते हैं कि एक बर्तन में अग्नि को ढंककर लाया गया था। यह अग्नि तब से आज तक निरंतर प्रज्जवलित हो रही है। कुंड में बबूल की लकड़ी के साथ चंदन की लकड़ी मिलाकर जलाई जाती है। मंदिर में प्रतिदिन पांच बार (सुबह सात बजे, दोपहर 12.30 बजे, दोपहर बाद 3.30 बजे, शाम 6.30 बजे और मध्यरात्रि) पूजा होती है।

वाटर वर्क्स

वाटर वर्क्स की स्थापना 1908 में की गई थी, जिसमें जल आपूर्ति सुविधा के लिए सुवर्णरेखा नदी पर 1,200 फीट लंबा एक छोटा बांध बनाया गया था। बांध के पास नदी के किनारे एक मजबूत पंपिंग स्टेशन बनाया गया था। इसके अतिरिक्त, उस स्थान पर एक छोटी प्राकृतिक घाटी में एक जलाशय बनाया गया था, जिसमें लगभग आधा मील लंबा एक बांध था।

वाटर वर्क्स का निर्माण 1910 तक पूरा हो गया था, और नदी के किनारे 1 मिलियन गैलन प्रति दिन (एमजीडी) की क्षमता वाला एक पंपिंग स्टेशन स्थापित किया गया था। इसके बाद, 1921 में पैटरसन शुद्धिकरण संयंत्र ने परिचालन शुरू किया।

यूनाइटेड क्लब

1913 में स्थापित टिस्को संस्थान मूल रूप से समुदाय के लिए एक मनोरंजक सुविधा के रूप में कार्य करता था, जो डायरेक्टर्स बंगलो के सामने स्थित था। अपने शुरुआती वर्षों के दौरान, संस्थान में टेनिस कोर्ट, फुटबॉल और हॉकी के लिए विशाल मैदान, एक बॉलिंग एली, एक बिलियर्ड रूम और नृत्य तथा विभिन्न कार्यक्रमों की मेजबानी के लिए एक खूबसूरत सुसज्जित कॉन्सर्ट हॉल था।

1948 में, टिस्को इंस्टीट्यूट का छोटा नागपुर रेजिमेंट (सीएनआर) क्लब के साथ विलय हो गया, जो पहले वर्तमान लोयोला स्कूल की साइट पर स्थित था, जहां यूनाइटेड क्लब की स्थापना हुई।

सेंट जॉर्ज चर्च

सेंट जॉर्ज चर्च की आधारशिला 28 दिसंबर, 1914 को औपचारिक रूप से रखी गई थी और 16 अप्रैल, 1916 को इसे समर्पित किया गया था। चर्च सर दोराबजी टाटा द्वारा एंग्लिकन कांग्रेगेशन के लिए उदारतापूर्वक आवंटित भूमि पर स्थित है। सेंट जॉर्ज चर्च वर्तमान में एकमात्र प्रोटेस्टेंट चर्च है जहाँ अंग्रेजी भाषा में प्रार्थनाएँ आयोजित की जाती हैं।

डायरेक्टर बंगलो

1918 में 3.65 एकड़ में फैले इस बंगले का निर्माण स्टील प्लांट की स्थापना से पहले की एक मौजूदा संरचना के स्थान पर किया गया था। यह ऐतिहासिक आवास सर दोराबजी टाटा जैसे प्रतिष्ठित व्यक्तियों के निवास के रूप में कार्य करता था, जिन्होंने इसके शुरुआती दिनों में संचालन की देखरेख में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

8 विशाल कमरों, एक डाइनिंग हॉल, एक कार्ड रूम और एक लाउंज से सुसज्जित इस बंगले में गुलाब के बगीचे और मौसमी फूलों से सजा एक विशाल लॉन भी है। पिछले कुछ वर्षों में, इसने कई प्रतिष्ठित मेहमानों का स्वागत किया है, जिनमें पंडित जवाहरलाल नेहरू, प्रिंस चार्ल्स, जर्मन फेडरल मिनिस्टर डॉ. लुडविग एरहार्ट और ईरान के शाह जैसे उल्लेखनीय व्यक्ति शामिल हैं, जो जमशेदपुर की अपनी यात्राओं के दौरान यहां आए थे।

एसएनटीआई

जमशेदपुर टेक्निकल इंस्टीट्यूट का उद्घाटन समारोह 1 नवंबर, 1921 को आयोजित हुआ, जिसमें 23 छात्रों के शुरुआती समूह को धातुकर्म प्रक्रियाओं, वर्क्स मेंटेनेंस और औद्योगिक अर्थव्यवस्था में प्रशिक्षण देने के अपने मिशन की शुरुआत हुई। उस समय संस्थान की सुविधाओं में चार कक्षाएँ, दो हॉल और दो कार्यालय शामिल थे।

2 अप्रैल, 1992 को, संस्थान में एक महत्वपूर्ण परिवर्तन हुआ और संस्थान के पहले पूर्व छात्र शावक के नानावती के सम्मान में इसका नाम बदलकर शावक नानावती टेक्निकल इंस्टीट्यूट (एसएनटीआई) कर दिया गया, जिन्होंने 1970 से 1972 तक टाटा स्टील के प्रबंध निदेशक के रूप में कार्यरत थे।

भरूचा मेंशन

1935 में खुर्शीद मानेकजी भरूचा, जो टिस्को के अग्रणी भारतीय चीफ कैशियर थे, द्वारा निर्मित भरूचा मेंशन स्टील से बनी एक विशिष्ट चार मंजिला इमारत है और ईंटों की परत से सुसज्जित है। उल्लेखनीय रूप से, पार्टीशन वॉल को सुरखी (चूना पत्थर) और ईंटों के मिश्रण का उपयोग करके बनाया गया था, जो टाटा स्टील जनरल ऑफिस की स्थापत्य शैली को दर्शाता है।

शुरुआत में टिस्को प्लांट में कार्यरत पारसी व्यक्तियों के लिए एक अस्थायी आवास और ठहरने के स्थान के रूप में काम करने वाली इस हवेली में 1950 के दशक में एक परिवर्तन आया जब इसके पिछले हिस्से के एक हिस्से को टाउनशिप के प्रमुख आलीशान थिएटर कॉम्प्लेक्स रीगल टॉकीज में बदल दिया गया। रीगल बिल्डिंग के रूप में प्रतिष्ठित, यह संरचना प्रारंभिक आधुनिकता के एक महत्वपूर्ण पहलू को दर्शाती है जिसने जमशेदपुर के चरित्र और विकास को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित किया है।

अनोखी प्रेम कथा का प्रतीक है सर दोराबजी पार्क

बिष्टुपुर के कीनन स्टेडियम के सामने इस पार्क में जेएन टाटा के बेटे सर दोराबजी टाटा और उनकी पत्नी मेहरबाई टाटा की प्रतिमा स्थापित है। लगभग 2.5 एकड़ में फैले इस पार्क में विशाल डायमंड स्ट्रक्चर भी है, जो इनकी अनोखी प्रेम कथा का प्रतीक है।

आर्मरी ग्राउंड में तैनात थी स्वदेशी तोप

आर्मरी ग्राउंड बिष्टुपुर के सेंट्रल वाटर वर्क्स के सामने स्थित है। 15 सितंबर, 1941 में गोलमुरी लाइन में बिहार रेजिमेंट की पहली बटालियन का गठन हुआ था। इस रेजिमेंट को विश्वयुद्ध के समय विमानों के संभावित हमले से टाटा स्टील प्लांट को बचाने की जिम्मेदारी दी गई थी।

तत्कालीन वायसराय लार्ड वेवेल के जमशेदपुर दौरे के समय स्वदेशी तोप को नार्दर्न टाउन स्थित के जिस मैदान में प्रदर्शित किया। उसे इसी कारण आर्मरी ग्राउंड के नाम से जाना जाता है।

शहर का पहला प्राइवेट होटल बुलेवर्ड

होटल बुलेवर्ड बिष्टुपुर थाना के बगल में स्थित है, जिसका निर्माण 1919 को गोवा से एक उद्यमी ठेकेदार बार्थोलोम्यू डी-कोस्टा ने की थी।

1940 में 45 हजार रुपये की लागत से इस होटल को छह महीने में बनाया गया था। दूसरे विश्वयुद्ध के दौरान इस होटल में 28 अंग्रेज और अमेरिकन पायलट 18 महीने तक यहां रुके थे।

स्टेशन तक सुनाई देती थी क्लॉक टॉवर की आवाज

क्लॉक टॉवर गोलमुरी गोल्फ ग्राउंड मैदान में स्थित है। चार घुमावदार घड़ियों के साथ 70 फीट ऊंचे इस क्लॉक टॉवर को एंग्लो स्विस वाच कंपनी द्वारा तैयार किया गया था।

चार मार्च, 1939 को टिनप्लेट कंपनी ऑफ इंडिया के पहले महाप्रबंधक जॉन लेशोन के सेवाकाल के 16 साल पूरे होने के उपलक्ष्य पर इस क्लॉक टॉवर की स्थापना की गई थी। कहा जाता है कि इस घड़ी की बेल की आवाज स्टेशन और सोनारी तक सुनाई पड़ती थी।

दूसरे विश्वयुद्ध में हमले से बचने के लिए बना था आइएसडब्ल्यूपी बंकर

इंडियन स्टील एंड वायर प्रोडक्ट्स लिमिटेड (आइएसडब्ल्यूपी) की स्थापना सरदार बहादुर इंदर सिंह ने 1920 में की थी। उस समय कंपनी 300 एकड़ में फैली हुई थी।

इस कंपनी के ठीक सामने है एक विशाल बंकर। जिसे दूसरे विश्वयुद्ध के समय बनाया गया था। दूसरे विश्वयुद्ध के समय दुश्मन देशों के जहाज आने की सूचना पर पूरे शहर में सायरन बजता था।

टाटा मोटर्स से पहले यहां थी पेनसेल्वेनिया की कंपनी, बनाती थी रोड रोलर

टाटा मोटर्स भले ही कंपनी का पहला मदर प्लांट हो, लेकिन यहां 1930 में पेनसल्वेनिया कंपनी हुआ करती थी, जो रोड रोलर बनाती थी लेकिन कंपनी घाटे में चली गई। जेआरडी टाटा और सुमंत मूलगांवकर की मुलाकात जर्मनी में कंपनी के मालिक से हुई और उन्होंने इसे खरीद लिया।

 

---Advertisement---